Tulsi Mantra: तुलसी को जल चढ़ाने का चमत्‍कारिक मंत्र, इस मंत्र से होती हैं मां लक्ष्‍मी प्रसन्‍न

तुलसी के पौधे को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है और कहा जाता है कि माता तुलसी भगवान विष्णु कोअत्यंत प्रिय हैं। भगवान विष्णु की पूजा में तुलसी के पत्तों के बिना प्रसाद नहीं चढ़ाया जाता है। हिन्दू धर्म में यह मान्यता है कि सुबह सुबह तुलसी पर जल अर्पित करना बहुत शुभ होता है और इससे घर में सकारात्मकता आती है। और आपके जीवन में कई तरह के लाभ होते है क्या आप जानते हैं कि तुलसी पर जल चढ़ाते समय एक विशेष मंत्र का पाठ भी किया जाता है, जिससे मां लक्ष्‍मी प्रसन्‍न होती है?

तुलसी का महत्व

सनातन धर्म में, तुलसी के पौधे को विशेष महत्व प्राप्त है. तुलसी का पौधा अपने आसपास के माहौल में सकारात्मक ऊर्जा का स्रोत है. हिन्दू धर्म में, तुलसी को मां लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है, इसलिए तुलसी की विधि-विधान के अनुसार पूजा करना जीवन में अद्भुत सुख, समृद्धि, और सफलता का स्रोत है. धर्मशास्त्रों में, तुलसी की पूजा के लिए कुछ नियम बताए गए हैं, जिनका पालन करने से ही तुलसी पूजा से पूरा फल मिलता है.

तुलसी की नियमित रूप से पूजने से व्यक्ति को आध्यात्मिक और शारीरिक लाभ होता है। तुलसी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो सेहत के लाभकारी होते हैं।

तुलसी को जल चढ़ाने का मंत्र | Tulsi Par Jal chadane ka mantra

तुलसी को जल चढ़ाने का मंत्र विशेष रूप से पूजा के दौरान पढ़ा जाता है। इस मंत्र का जाप करने से तुलसी को प्रसन्न किया जाता है और इससे भक्त को आध्यात्मिक लाभ होता है। तुलसी को जल चढ़ाने का मंत्र:ॐ तुलस्यै नमः।

इस मंत्र का अर्थ

  • “ॐ” का प्रयोग आदिपुरुष ब्रह्म को सूचित करने के लिए होता है। यह एक परम आत्मा का प्रतीक है और सभी मंत्रों की शुरुआत इससे होती है।
  • “तुलस्यै” शब्द का अर्थ है तुलसी को समर्पित या अर्पित किया गया। इससे साफ है कि मंत्र तुलसी की पूजा को समर्पित किया जा रहा है।
  • “नमः” शब्द समर्पण या नम्रता का अर्थ है। इससे साधक अपनी श्रद्धाभक्ति के साथ तुलसी को समर्पित करता है।

Tulsi Par Jal Chadane ka mantra: तुलसी माता को जल देने के नियम

– तुलसी को कभी भी बिना नहाएं न छूएं, और न ही उसे जल दें।

– रविवार और एकादशी के दिन तुलसी माता को जल अर्पित न करें. इन दिनों में माता तुलसी भगवान विष्णु के लिए बिना जल के व्रत रखती हैं. 

– शाम के समय तुलसी माता को जल ना दें. बल्कि दीपक जलाएं. 

तुलसी की पूजा के लाभ – Tulsi Puja ke Labh

  1. तुलसी की पूजा से मन को शांति मिलती है और आध्यात्मिक उन्नति होती है।
  2. तुलसी के पौध के सेवन से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है।
  3. तुलसी का पौधा नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने में मदद करता है और घर को पॉजिटिव ऊर्जा से भर देता है।
  4. तुलसी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जिससे रोग निवारण होता है।

इस तरह, तुलसी को जल चढ़ाने का मंत्र एक पौराणिक परंपरा का हिस्सा है, जो व्यक्ति को आध्यात्मिक और शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है। तुलसी को समर्पित रहकर हम अपने जीवन को पूर्णता की ओर बढ़ा सकते हैं और आत्मा के साथ मिलकर एक उदार और सत्य का जीवन जी सकते हैं।

Read Also: