Sara Tendulkar: शुभमन गिल के साथ फेक फोटो पर भड़कीं सारा तेंदुलकर, सोशल मीडिया पर निकाला गुस्सा

Sara Tendulkar photo: शुभमन गिल के साथ फेक फोटो पर भड़कीं सारा तेंदुलकर, सोशल मीडिया पर निकाला गुस्सा photoसारा तेंदुलकर बॉयफ्रेंड नाम- हाल ही में, महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर की बेटी, सारा तेंदुलकर, डीपफेक के शिकार बन गई थीं। पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर कई ऐसी घटनाएं सामने आ रही हैं, जिसमें लोग किसी सेलिब्रिटी की तस्वीर या वीडियो के साथ छेड़छाड़ करके उन्हें सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं। सारा भी इसका शिकार बनीं हैं। उनकी एक तस्वीर को भारतीय ओपनर बल्लेबाज शुभमन गिल के साथ जोड़कर सोशल मीडिया पर साझा किया गया था। इस घटना के बारे में सारा ने सोशल मीडिया पर अपनी आपत्ति व्यक्त की है।

sara-shubman-1

Sara Tendulkar photo: सारा ने फोटो शेयर करने वाले लोगो के लिए इंस्टाग्राम स्टोरी पर लिखा

सारा ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी में लिखा, ”सोशल मीडिया हम सभी के लिए हमारे सुख, दुख और दैनिक गतिविधियों को साझा करने का एक अद्भुत साधन है। हालांकि, तकनीक का अत्यधिक इस्तेमाल कर दुरुपयोग देखना चिंताजनक है। यह सच्चाई से दूर करता है।”‘

सारा ने आगे लिखा, ”मेरे कुछ डीपफेक तस्वीरें हैं जो हकीकत से काफी दूर हैं। एक्स (ट्विटर) पर, सारा तेंदुलकर नाम का एक खाता खुद को पैरोडी घोषित कर रहा है, लेकिन जाहिर तौर पर, वह मेरे नाम के लोगों को भ्रमित कर रहा है। मेरा एक्स पर कोई खाता नहीं है। मैं उम्मीद करती हूँ कि एक्स इस खाते पर ध्यान देगा और उन्हें निलंबित करेगा।”

सारा तेंदुलकर की शुभमन गिल के साथ फेक फोटो- Sara Tendulkar photo

25sara1

सारा ने अपनी और शुभमन गिल की एक साथ वाली तस्वीर को फेक बताया है. कहा है की मेरी इस तस्वीर के साथ छेड़छाड़ की गयी है और लोगो के साथ शेयर किया जा रहा है जो बिल्कुल सही नहीं है. मेरे भाई अर्जुन की जगह शुभमन की तस्वीर लगाई गयी है. इस फोटो के साथ एडिटिंग करके social media पर शेयर किया जा रहा है.

इस तस्वीर में, सारा और अर्जुन तेंदुलकर के बीच कुछ छेड़छाड़ की गई थी, जिसमें शुभमन की जगह पर अर्जुन की तस्वीर थी। बॉलीवुड की कई हिरोइन है जिनको सारा की तरह डीपफेक का शिकार होना पड़ा था।

Read Also:

डीपफेक क्या होता है?

डीपफेक तस्वीरें और वीडियो दोनों रूपों में उपस्थित हो सकते हैं। इसका निर्माण एक विशेष मशीन लर्निंग तकनीक का उपयोग करके किया जाता है, जिसे हम डीप लर्निंग कहते हैं। डीप लर्निंग में, कंप्यूटर को दो वीडियो या फोटो दिए जाते हैं और इसे देखकर वह स्वयं ही उन दोनों को एक समान रूप में बना लेता है।

यह किसी बच्चे की तरह होता है जो किसी वस्तु की नकल करता है। इस प्रकार के फोटो और वीडियो में, हिडन लेयर्स होते हैं जिन्हें केवल संपादन सॉफ़्टवेयर से ही देखा जा सकता है। एक वाक्य में कहें तो, डीपफेक एक प्रक्रिया है जो वास्तविक छवियों और वीडियों को बेहतरीन फेक छवियों और वीडियों में बदलती है। डीपफेक तस्वीरें और वीडियो फेक होते हुए भी रियल दिखते हैं।